Happy New Year Poems 2018 in Hindi

Happy New Year Poems 2018 in Hindi

Hey, guys! New Year is one event the place you get the prospect of starting a brand new life by dwelling all of the previous apart. This is mostly a particular time to attain not possible issues. So if you’re pondering to strive one thing new on this yr? Then expressing your needs and greetings to your particular ones in a poetic model can be cool! Isn’t it sound attention-grabbing? Poems are thought of as probably the most highly effective methods to specific because it permits the reader to visualise the issues.

Generally, we categorical our emotions and feelings in easy phrases however expressing them by Poems is a good way to pour the heat of the love, pleased ideas in poetic type, which in any other case can be tough to inform in regular phrases. A poem is a fantastic type of revealing emotions to others because it offers voice to your ideas, beliefs, views, and opinions.Now Don’t fear I’ll enable you to in conveying your emotions, needs and greeting to your family members. To make it easy under I’ve listed a number of the newest and well-known Happy new Year Poems 2018.

happy New year poems New Year 2018

नए वर्ष में नई पहल हो।
कठिन ज़िंदगी और सरल हो।।
अनसुलझी जो रही पहेली।
अब शायद उसका भी हल हो।।

जो चलता है वक्त देखकर।
आगे जाकर वही सफल हो।।
नए वर्ष का उगता सूरज।
सबके लिए सुनहरा पल हो।।

समय हमारा साथ सदा दे।
कुछ ऐसी आगे हलचल हो।।
सुख के चौक पुरें हर द्वारे।
सुखमय आँगन का हर पल हो।।
नए वर्ष की शुभकामनाएँ |

पहले भी प्रण कई लिए थे,
खुद से वादे कई किए थे,
जो भी पूरा कर न पाये,
पूरा अबके साल करेंगे।
नए साल|

नई उमंगे नई आशाएँ
अंधकार में कर उजियारा
स्वागत है नव वर्ष तुम्हारा

दुनिया से आतंक मिटाएँ
सभी शांति के दीप जलाएँ
आतंक जग में जो फैलाते
उनको कहीं न मिले सहारा
स्वागत है नव वर्ष तुम्हारा

खेतों में फिर सोना बरसे
रोज़गार के अवसर निकलें
चहुँओर विकास की राह बनें
बह खुशियों की जीवन धारा
स्वागत है नव वर्ष तुम्हारा

स्व निर्भर हम तभी बनेंगे
लक्ष्य सामने कमर कसेंगे
आपस में अब नहीं लड़ेंगे
सदा करें भारत जयकारा
स्वागत है नव वर्ष तुम्हारा
सुरेशचंद्र शुक्ल ‘शरद आलोक’

Happy New Year Poems In Hindi:

happy New year poems New Year Resolutions

सुनहरे सपनों की झंकार, लाया है नववर्ष
खुशियों के अनमोल उपहार लाया है नववर्ष

आपकी राहों में फूलों को बिखराकर लाया है नववर्ष
महकी हुई बहारों की ख़ुशबू लाया है नववर्ष

अपने साथ नयेपन का तूफान लाया है नववर्ष
स्नेह और आत्मीयता से आया है नववर्ष

सबके दिलों पर छाया है नववर्ष
आपको मुबारक हो दिल की गराईयों से नववर्ष।

जिन्दगी का एक ओर वर्ष कम हो चला,
कुछ पुरानी यादें पीछे छोड़ चला..

कुछ ख्वाईशैं दिल मे रह जाती हैं..
कुछ बिन मांगे मिल जाती हैं ..

कुछ छोड़ कर चले गये..
कुछ नये जुड़ेंगे इस सफर मे ..

कुछ मुझसे बहुत खफा हैं..
कुछ मुझसे बहुत खुश हैं..

कुछ मुझे मिल के भूल गये..
कुछ मुझे आज भी याद करते हैं..

कुछ शायद अनजान हैं..
कुछ बहुत परेशान हैं..

कुछ को मेरा इंतजार हैं ..
कुछ का मुझे इंतजार है..

कुछ सही है
कुछ गलत भी है.

कोई गलती तो माफ कीजिये और
कुछ अच्छा लगे तो याद कीजिये।

Short New Year Poems:

happy New year poems for friends 2018

जिन्दगी का एक ओर वर्ष कम हो चला,
कुछ पुरानी यादें पीछे छोड़ चला..
कुछ ख्वाईशैं दिल मे रह जाती हैं..
कुछ बिन मांगे मिल जाती हैं ..
कुछ छोड़ कर चले गये..
कुछ नये जुड़ेंगे इस सफर मे ..
कुछ मुझसे बहुत खफा हैं..
कुछ मुझसे बहुत खुश हैं..
कुछ मुझे मिल के भूल गये..
कुछ मुझे आज भी याद करते हैं..
कुछ शायद अनजान हैं..
कुछ बहुत परेशान हैं..
कुछ को मेरा इंतजार हैं ..
कुछ का मुझे इंतजार है..
कुछ सही है
कुछ गलत भी है.
कोई गलती तो माफ कीजिये और
कुछ अच्छा लगे तो याद कीजिये।

स्वागत है नव वर्ष तुम्हारा,
अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा,

देकर नवल प्रभात विश्व को,
हरो त्रस्त जगत का अंधियारा

हर मन को दो तुम नई आशा
बोलें लोग प्रेम की भाषा,

समझें जीवन की सच्चाई,
पाटें सब कटुता की खाई,

जन-जन में सद्भाव जगे,
औ घर-घर में फैले उजियारा !

खत्म हुआ है कोई कारवां फिर से,
शुरू हुआ है नया रास्ता फिर से,
हुई है हसरतें सारी जवां फिर से,
देखत|

Funny New yr Poems:

happy New year 2018 Poem About Events Around The Holidays

बीते साल की यादें कुछ ऐसी होती है..
कुछ ख़्वाहिशें दिल में रह जाती है..
कुछ बिन मांगे मिल जाती है..
कुछ तो अधूरे रह जाते है..
कुछ नए साल के सफर में जुड़ जाते है..
कुछ मुझसे खफा खफा सा रहते है..
कुछ तो बहुत खुश है मुझसे..
कुछ मुझे याद करते है..
कुछ तो मुझे भूल गए है..
कुछ तो सायद अनजान है..
तो कुछ बहुत परेसान है..
किसी को मेरा इन्तेजार है..
किसी का मुझे इन्तेजार है..
उम्मीद करते है आने वाले साल में..
जो मुझसे जितना दूर है वो मुझसे उतना ही करीब है|

नए साल में नयी पहल हो ,
आने वाला ऐसा पल हो ,
मुश्किल राहे तुम्हारी आसान हो ,
उलझी रहे जो तुम्हारी पहेली ,
इस नए साल में उसका भी खूबसूरत हल हो ,
नया साल का उगता हुआ सूरज ,
आपके ज़िन्दगी में खिलता नया फूल हो ,
मिले सदा साथ आपके अपनों का ,
खुशनुमा आपका हर पल हो ,
चले जो वक़्त के साथ हमेशा ,
कामयाबी उसी के साथ हो ,
रह गई जो बाकी अधूरे सपने पिछले साल में ,
मुकम्मल हो जाये इस नए साल में।”
नया साल २०१६ मुबारक हो|

सुनहरे सपनों की झंकार, लाया है नववर्ष
खुशियों के अनमोल उपहार लाया है नववर्ष
आपकी राहों में फूलों को बिखराकर लाया है नववर्ष
महकी हुई बहारों की ख़ुशबू लाया है नववर्ष
अपने साथ नयेपन का तूफान लाया है नववर्ष
स्नेह और आत्मीयता से आया है नववर्ष
सबके दिलों पर छाया है नववर्ष
आपको मुबारक हो दिल की गराईयों से नववर्ष।

Happy New Year 2018 Poems:

happy New year poems for friends 2018

Ho apko har shaam mubarak
Har chandni ki raat mubarak
Ess Nav Varsh 2018 ka
Har ek pal ho apko mubarak.

Naye saal ki nayi tarange,
jeewan me aaye nayi umange,
kaam adhure kare hum poore,
door kare hum saare andhere,
pragati path par badhe chale,
mitaein agar ho koi shikwe gile ,
Pariwar,samaj aur ristedari.
nibhayein achhe se jimmedari,
dhan ,buddhi, gyan me vridhi ho,
aur pradushan bhi kam ho.

Dil Me Mere Ek Khayal Aata Hai
Dost Koi Aisa Hota Mera
Jo Rakhta Khayal Sirf Mera
January – Ki Wo Sunahri Dhoop Ho
Febreruy – Ki Wo Patjhar Me Bahar Ho
March – Ki Wo Shaam Ho
April – Me Wo Khilta Phool Ho
May – Ki Khushboo Ho
June – Ki Chichilati Dhoop Me Sard Hawa Ho
July – Ki Wo Chhaaon Ho
August – Ki Wo Barsaat Ho
September – Ki Wo Chandani Raat Ho
October – Ki Wo Rimjhim Rimjhim Barish Ho
November – Ki Wo Thand Ka Ehsaas Ho
December – Ki Sard Bhari Raat Ho
12 Mahine Rahe Wo Sath Mere
Saalo Saal Yahi Hota Rahe.

Famous New Year Poem:

Naye Saal Ki Shuruwaat Bahut Khaas Hogi
Apno Ki Chahat Sabke Saath Hogi
Na Kisi Ke Chehre Pe Koi Gum
Na Koi Khaamosi Hogi
Khusiyon Bhari Baate Aur Muskaan Hogi
Thaam Kar Aapno Ka Hathon Me Hanth
Naye Saal Ki Shuruwaat Hogi
Sab Mil Jul Kar Baithe Gey Saath
Tab Chaand Sitaaron Ki Mulaqaat Hogi
January Ke Sard Hawa Me Khili Khili Dhoop Hogi
Patjhar Me Bhi Hogi Bahaar
Sab Jhoom Uthege Jab Dhoop Me Barish Hogi
Naye Saal Ki Shuruwaat Bhut Khaas Hogi….!!

Khud Ko Pichle Saal Ke Bhulane Ki Had Tak
Nashe Me Dube Logo Ne Kiya Sawagat Naye Saal Ka
Bahut Liye The Paran Bahut Kiye Wade Khud Se
Be Lagaam Khawahiso Ko Bas Yaad Raha
Pichle Saal Ki Aakhiri Raat Ka
Wo Aakhiri Pal Jiske Baad Sirf Calendar Badal Gaya
Rah Gaye Saare Waade Fike Aur Hum Wahi Khade Rah Gaye
Utar Gaya Saara Khumaar Naye Saal Ke Pahli Taarikh Ke Sath
Aur Hum Aaj Bhi Beparwah Si Zindagi Jeete Rah Gaye….!!

Aayee Hai Dil Me Nayee Jazbaat Is Naye Saal Me
Baat Ho Koi Dil Ki Is Naye Saal Me
Mile Koi Dil Se Is Suhaani Shaam Ko Is Naye Saal Me
Kahe Koi Baat Apni Zubani Is Naye Saal Me
Leti Hai Aarman Angraai Is Naye Saal Me
Khushiyo Ki Ho Rawani Is Naye Saal Me
Aapko Mile Apna Pyaar Is Naye Saal Me
Ho Jaye Puri Adhuri Kahani Is Naye Saal Me
Pure Ho Har Aarman Is Naye Saal Me
Milti Rahe Kamyabi Aapko Is Naye Saal Me
Aap Sabhi Ko Mubarak Ho Subah Ki Kiran Is Naye Saal Me.

New Year Poems 2018:

Happy new year 2018 wishes sms

Sapno Ki Udaan Laya Hai Ye Naya Saal
Khusiyon Se Bahara Pal Laya Hai Ye Naya Saal
Muskaan Bikhri Rahe Aapke Zindagi Me
Aisa Bahaar Laya Hai Ye Naya Saal
Armaano Ka Aanchal Uda Le Is Jahaan Me
Ki Har Lamhe Me Jiye Naye Naye Pal Ko
Mehki Hui Bahaar Laya Hai Ye Naya Saal….!!

Khile hue hon sabhi chehre
bhaiya abaki saal mein,
pal hon sare swarn – sunhare
bhaiya abaki saal males.
har din hello ab mane diwali
har mausam ho holi ka,
man ke andar rang bhara ho
aangan ki rangoli ka.
jakhm na hon boli ke gahare bha

Naya saal, naya din, nayi tamanna jeevan ki…….
Chalo mil beth tye kare khusiya apne aangan ki….
Sabko mubarak ho naya saal nayi kiran jeevan ki….
Chalo banaye zindagi ko josh umang se bhare palo ki
Sabke pure ho sapne, uchayiyaa mile jiveen ki……
Chalo mil beth baant le sukh dukh apne kismat ki…

https://happynewyear-2018.org/happy-new-year-poems/

 

0 Comments

    Leave a Comment

    Login

    Welcome! Login in to your account

    Remember me Lost your password?

    Lost Password